Home Top City राजस्थानः जयपुर में इन स्थानों पर भ्रमण के लिए जाए

राजस्थानः जयपुर में इन स्थानों पर भ्रमण के लिए जाए

10 second read
0
0
144
jaipur

अगर आपको इतिहास से लगाव है और प्राचीन महलों, शाही जीवनशैली, शाही कलाकृतियों को देखने का शौक है तो राजस्थान का जयपुर शहर आपके लिए बिल्कुल सही है।

राजस्थान राज्य का यह प्राचीन शहर अपने भव्य महलों के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। एक शानदार और शाही अवकाश व्यतीत करने के लिए जयपुर से अच्छा कुछ नहीं हो सकता। गुलाबी नगर के नाम से मशहूर यह शहर प्राचीन भारत की संस्कृति, सभ्यता और शाही परंपरा को समेटे हुए है। यहां जाने वाले हर पर्यटक का अनुभव हमेशा शानदार ही होता है।

jaipur

हवा महलः

जयपुर के भ्रमण की शुरुआत आप यहां की प्रसिद्ध हवामहल से कर सकते हैं। हवामहल अपनी बेहतरीन वास्तुकला और ऐतिहासिक महत्व के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है। यह अपनी प्राचीन संरचना के कारण विश्व में अमूल्य दर्शनीय स्थलों में गिना जाता है। इस विशाल महल का निर्माण 1799 में राजा सवाई प्रताप सिंह ने करवाया था। इस महल की सबसे बड़ी खासियत है कि यहां 953 खिड़की है। जिसकी वजह से यहां हवा का बहाव हमेशा बना रहता है। इसीलिए इसे हवामहल भी कहा जाता है। इसका निर्माण राजसी महिलाओं के लिए करवाया गया था ताकि वह शहर की गतिविधियों को महल के अंदर से ही देख सके।

जयपुर की यात्रा
रॉयल गैटोरः

हवा महल के बाद यहां का दूसरा शाही पैलेस रॉयल गैटोर है। यह दरअसल में राजस्थान के शाही परिवारों की समाधि स्थल के रूप में जाना जाता है। जो कि जयपुर शहर के नाहरगढ़ किले के निचले भाग पर बना हुआ है। यह बिल्कुल शहर के बीच में ही बसा हुआ है। इस स्थान पर राजा माधव सिंह द्वितीय, प्रताप सिंह, महाराजा जयसिंह की स्मृतियों, के चिन्ह बने हुए हैं। यह जयपुर के खास पर्यटन स्थलों में गिना जाता है, इसका निर्माण पूरी तरह से संगमरमर से हुआ है।

Read More :- असम का आकर्षण गुवाहाटी में खास पर्यटन स्थल

royal

गलताजीः

गलताजी जयपुर शहर से बाहर स्थित है। इसकी शहर से दूरी 10 किलोमीटर की है। गलताजी एक धार्मिक स्थल है जहां श्रद्धालु दर्शन के लिए आया करते हैं। इस मंदिर की गुंबरदार मंडप और यहां के स्तंभों में बनाई गई कलाकृतियां पर्यटकों को सबसे अधिक प्रभावित करती हैं। इस मंदिर में मकर संक्रांति के दिन सबसे बड़ी पूजा का आयोजन किया जाता है। इसके अलावा इस मंदिर के बगल में एक जलाशय भी है जहां स्नान करना शुभ माना जाता है।

गलताजी
बिड़ला मंदिरः

गलताजी मंदिर के अलावा जयपुर में बिरला मंदिर भी शहर के लिए एक खास जगह है। यह मंदिर जयपुर के खास आकर्षण में गिना जाता है। इसका निर्माण भी संगमरमर से करवाया गया है। इस मंदिर को लक्ष्मी नारायण का मंदिर भी कहा जाता है। मंदिर परिसर के चारों ओर फैला बगीचा सैलानियों को काफी आकर्षित करता है। मंदिर परिसर के अंदर कांच की खिड़कियों में शास्त्रों का चित्रण, गुंबद, संगमरमर की मूर्तियां देखने लायक है। एकांत में समय व्यतीत करना पसंद करने वाले लोगों के लिए यह मंदिर मानसिक और आत्मिक शांति लेकर आता है।

PNG BIRLA tample

चौखी धानीः

इन सारे स्थलों के अलावा चौखी धानी भी जयपुर का एक खास स्थल है। यह जयपुर शहर में सुखदेवपुरा नोहार के नजदीक स्थित है। राजस्थान की संस्कृति को समझने के लिए यहां आना आवश्यक है। यहां पर आपको परंपरागत राजस्थानी नृत्य, संगीत और खान-पान देखने को मिलेगा। यहां पर ऊंट की सवारी, कठपुतलियों की कला, का भी आनंद लिया जा सकता है।.

चौखी-धानी

  • गुजरात: रन ऑफ कच्छ के प्रमुख दर्शनीय

    रन ऑफ कच्छ गुजरात के प्रमुख शहर कच्छ में फैला हुआ है। ये दुनिया का सबसे बड़ा नमक का रेगिस्…
Load More Related Articles
Load More By suman rajawat
Load More In Top City

Check Also

सपनों के शहर मुंबई की यात्रा

मुम्बई शहर चारों ओर से समुद्र से घिरा हुआ है। मुम्बई को कोई सपनों का शहर मानता है तो कोई म…