Home Top City पुरी-कम समय और सीमित बजट में छुट्टियों का आनंद लेने का बेहतरीन विकल्प

पुरी-कम समय और सीमित बजट में छुट्टियों का आनंद लेने का बेहतरीन विकल्प

12 second read
0
0
भुवनेश्वर

यदि आप कम समय के लिए वैकेशन प्लान कर रहे हैं तथा आपका बजट सीमित है तो एक पर्यटक स्थल के रूप में के रूप में पुरी अनेक संभावनाएं प्रस्तुत करता है ।

उड़ीसा राज्य में स्थित जगन्नाथ पुरी भारत में ना सिर्फ धार्मिक महत्त्व रखता है बल्कि समुद्र तट पर स्थित होने के कारण यह एक अच्छे पर्यटन स्थल के रूप में भी विकसित हो गया है। पुरी एवं उसके आसपास के पर्यटन स्थल धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व रखते हैं। इसके साथ ही पुरी के पास स्थित चिल्का झील ईकोटूरिज्म के रूप में विश्व प्रसिद्ध है।

आइए जानते हैं कि पुरी एवं इसके आसपास के मुख्य पर्यटन स्थल कौन से हैं।

जगन्नाथ मंदिर: पुरी शहर में लोगों के आस्था का केंद्र जगन्नाथ स्वामी मंदिर है । जगन्नाथ स्वामी भगवान विष्णु के अवतार माने जाते हैं। जगन्नाथ मंदिर को चार धामों में से एक धाम माना गया है और जुलाई महीने में होने वाली रथयात्रा रथयात्रा जगन्नाथ पुरी का मुख्य आकर्षण मानी जाती है। पुरी का जगन्नाथ मंदिर एक प्राचीन मंदिर है जिसका निर्माण 11 वीं सदी में किया गया था यह मंदिर वास्तुकला और ऐतिहासिक रूप से भी बहुत महत्वपूर्ण है।

जगन्नाथ मंदिर

 

पुरी बीच :

पुरी शहर बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित है और इस शहर में एक बहुत ही सुंदर समुद्री तट है। यह बीच पुरी आने वाले पर्यटकों को मस्ती और सुकून के पल उपलब्ध कराता है। पुरी तट पर समुद्र शांत माना जाता है और यहां अक्सर लोग आसानी से समुद्र में बिना किसी डर के स्नान कर सकते हैं अथवा बोट राइड का आनंद ले सकते हैं।

 

पुरी बीच

 

कोणार्क सूर्य मंदिर:

13 वी सदी सदी में निर्मित यह मंदिर वास्तुकला का बेजोड़ नमूना है। इस मंदिर को एक रथ के के आकार में बनाया गया है जिसमें 24 पहिए हैं। पुरी से कोणार्क मंदिर की दूरी लगभग 35 किलोमीटर है तथा यहां आसानी से प्राइवेट टैक्सी अथवा टूरिस्ट बसों के माध्यम से पहुंचा जा सकता है। पुरी से कोणार्क सूर्य मंदिर जाने वाला रास्ता कुछ समय के लिए समुद्र तट के किनारे होकर जाता है, जिससे समुद्र का बहुत ही मनोरम दृश्य देखने को मिलता है।

कोणार्क सूर्य मंदिर

चिल्का झील:

पुरी शहर से दक्षिण में 50 किलोमीटर दूर स्थित खेल का एक खारे पानी की बड़ी झील है। यह झील प्रकृति प्रेमियों के लिए बहुत बड़ा आकर्षण है। इस झील में अनेक प्रजातियों के पक्षियों को देखा जा सकता है। इसके अलावा चिल्का झील में डॉल्फिन को आसानी से देखा जा सकता है।

 

चिल्का झील

भुवनेश्वर:

उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर पुरी से लगभग 70 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । कोणार्क मंदिर देखने के बाद पर्यटक अक्सर उसी दिन भुवनेश्वर की यात्रा करते हैं। भुवनेश्वर शहर में स्थित नंदनकानन चिड़ियाघर, लिंगराज मंदिर, उदयगिरि ,खंडगिरि आदि पर्यटक स्थल देखने योग्य हैं।

 

भुवनेश्वर

कैसे पहुँचे-

पुरी एक मुख्य स्टेशन है जो कि भारत के मुख्य शहरों से जुड़ा हुआ है। यहां पहुँचना बहुत ही आसान है। आप पुरी ट्रेन, हवाई यात्रा कर के जा सकते हैं।आप चाहे तो पुरी बस या कार से भी जा सकते हैं। यदि आप ट्रेन से यात्रा करते हैं तो यह सबसे अच्छा विकल्प है क्योंकि कई ट्रेन यहां रुकती है। यदि आप हवाई यात्रा कर पुरी पहुँचना चाहते हैं तो सबसे पास हवाई अड्डा पुरी की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है जो कि पुरी से लगभग 56 किलोमीटर की दूरी पर है।

कब जाए:

पुरी की यात्रा का सबसे बेहतरीन समय अक्टूबर से फरवरी होता है। इस समय यहां हल्की ठंडक होती है । यदि आप जगन्नाथ यात्रा में शामिल होना चाहते है तो इसके लिए जून जुलाई सबसे अच्छा समय है। जहां आस्था का अनूठा संगम देखने को मिलता है।

Load More Related Articles
Load More By Anjali pandey
Load More In Top City

Check Also

देवभूमि हरिद्वार के दर्शनीय स्थल

उत्तराखंड राज्य में पहाड़ियों के बीच बसा हुआ हरिद्वार जिसे देवभूमि तुल्य माना गया है। यह हि…