Home Top City पचमढ़ी-प्राकृतिक सुंदरता से सरोबार हिल स्टेशन

पचमढ़ी-प्राकृतिक सुंदरता से सरोबार हिल स्टेशन

12 second read
1
0

मध्यप्रदेश में स्थित पचमढ़ी प्राकृतिक सुंदरता और हरियाली चारों तरफ से ओढ़े हुए है। यह मध्यप्रदेश का एकमात्र हिलस्टेशन है। बरसात और ठंड में यहां की प्राकृतिक खूबसूरती देखते ही बनती है । पचमढ़ी को यूनेस्को के द्वारा बायोस्फियर रिजर्व घोषित किया गया है। यदि आप परिवार के साथ कही घूमने का प्लान बना रहे हैं तो पचमढ़ी एक बार जरूर जा कर देखें।

पचमढ़ी में घने जंगल, पहाड़ियां, झरने आपको प्राकृतिक सुंदरता से रूबरू करवायेंगे। यहां के जंगलों में आपको कई जानवर जैसे टाइगर, तेंदुआ, भालू चिंकारा देखने को मिल जाएंगे , वैसे यहाँ के जंगलों के अंदर जाने के लिए आपको टूरिस्ट गाइड के साथ साथ विशेष परमिशन की जरूरत होगी।

पचमढ़ी

पचमढ़ी आप ठंड हो या बरसात या गर्मी सभी समय घूमने के लिए जा सकते हैं। गर्मियों में यहां का तापमान बहुत ज्यादा नही होता है, इसलिए ज्यादातर लोग यहां गर्मियों में आते हैं। वैसे यदि आप यहां घूमने जाने का प्लान बना रहे हैं तो जून से अक्टूबर का समय सबसे उचित होगा।

Read More :- झीलों का शहर-उदयपुर की यात्रा

आइये जाने पचमढ़ी के दर्शनीय स्थलों के बारे में:-

पांडव गुफा

पांडव गुफा

पांडव गुफा के बारे में मत प्रचलित है कि यहां पांडव आकर रुके थे, इसलिए इसका नाम पांडव गुफा पड़ा और इन्ही पांच गुफाओं के कारण इस स्थान का नाम पचमढ़ी पड़ा। ऐसा भी कहा जाता है कि इन गुफाओं में बौद्ध भिक्षु निवास किया करते थे। चट्टानों को काट कर बनी इन गुफाओं में आपको बेहतरीन प्राचीन नक्काशी देखने को मिल जाएंगी।

रजत प्रपात

रजत प्रपात

पचमढ़ी का सबसे खूबसूरत झरना जो आपका मन मोह ले, रजत प्रपात   है। 106 फ़ीट ऊंचे झरने से पानी गिरता है तो बहुत ही खूबसूरत प्रतीत होता है। इस झरने में पानी के गिरने वाली जगह काफी संकरी है, वहाँ से पानी की तेज धार का गिरना बहुत ही सुंदर दृश्य होता है। आप इस जगह पर जाकर असीम शांति का अनुभव करेंगे।

बी फाल

बी फाल

 

बी फाल को जमुना जलप्रपात के नाम से भी जाना जाता है। पचमढ़ी के स्थानीय लोग पीने के लिए पानी यही से प्राप्त करते हैं। बी फाल बहुत ही सुंदर झरना है। यदि आप यहाँ ट्रैकिंग करना चाहते हैं तो यहां कर सकते हैं।

बड़ा महादेव

बड़ा महादेव

यहां गुफाओं के अंदर शिव जी का मंदिर है। ऐसा कहा जाता है यह पचमढ़ी का सबसे पुराना मंदिर है। यह गुफा 60 मीटर लंबी है। आप एक बार इसके अंदर घुसना शुरू करेंगे तो आपको इसकी विशालता का अनुभव होगा। ऐसा कहा जाता है कि भस्मासुर से बचने के लिए शिव जी यही रुके थे। इस गुफा में 12 महीनों पानी बहता रहता है। पचमढ़ी आने वाले पर्यटक यहां जरूर आते हैं।

चौरागढ़ मंदिर

चौरागढ़ मंदिर

भगवान शिव जी का यह मंदिर हिंदुओं के लिए विशेष आस्था का महत्व रखता है। यहां आपको कई त्रिशूल मिल जाएंगे जो कि यहां पहुँचने वाले पर्यटकों के द्वारा यहां गाड़े गए हैं। ऊंचाई में स्थित होने के कारण यहां से सूर्योदय और सूर्यास्त बहुत खूबसूरत दिखाई देता है। यहां पहुँचने के लिए आपको पैदल चढ़ाई भी करनी पड़ती है।

पचमढ़ी में गुप्त महादेव का मंदिर, रीछागढ़, अप्सरा विहार, बाइसन लाज म्यूजियम, इरन ताल, सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान, सुंदर कुंड, और कई चर्च भी देखने को मिलेंगे ।

कैसे पहुँचे:

पचमढ़ी आप बस , ट्रेन या हवाई यात्रा कर के आप पहुँच सकते हैं। यदि आप सड़क मार्ग से पचमढ़ी के निकल रहे है तो भोपाल ,जबलपुर, कान्हा नेशनल पार्क से आसानी से बस पकड़ सकते हैं। आप चाहे तो कार से भी यात्रा कर सकते है । यदि आप अपनी कार से यात्रा करते हैं तो आप यहां चारों ओर फैली हरियाली को करीब से देख पाएंगे।

यदि आप वायु यात्रा कर रहे है तो आप जबलपुर या भोपाल जो कि निकटतम हवाई अड्डा है, पहुँच सकते हैं। यहां से आप बस या किराये से कार लेकर भी यात्रा कर सकते हैं। यदि आप ट्रेन से यात्रा करते हैं तो पचमढ़ी का सबसे निकटम स्टेशन पिपरिया है , इसके बाद आप सड़क मार्ग से यात्रा करनी होगी। पिपरिया प्रमुख बड़े शहरों से रेलमार्ग से जुड़ा हुआ है।

  • Leh-Laddakh trip

    लेह लद्दाख ट्रीप की संपूर्ण जानकारी

    लद्दाख भारत की खूबसूरत डेस्टिनेशन में से एक है, यहां हर पल मौसम बदलता रहता है। केंद्र सरका…
Load More Related Articles
Load More By Anjali pandey
Load More In Top City

Check Also

देवभूमि हरिद्वार के दर्शनीय स्थल

उत्तराखंड राज्य में पहाड़ियों के बीच बसा हुआ हरिद्वार जिसे देवभूमि तुल्य माना गया है। यह हि…