Home Top City सिटी ऑफ जॉय कोलकाता के दर्शनीय स्थल

सिटी ऑफ जॉय कोलकाता के दर्शनीय स्थल

11 second read
1
0
kolkata

कलकत्ता शहर जिसे सिटी ऑफ जॉय भी कहा जाता है। मिठास से भरा यह शहर बहुत ही खूबसूरत और अपने आप में ऐतिहासिक महत्व रखता है। कलकत्ता को भारत की सांस्कृतिक राजधानी भी माना जाता है। यदि इतिहास की बात की जाएं तो बंगाल में पहले नवाबों का फिर बाद में ब्रिटिशों का कब्जा हो गया। अगर आप साहित्य और कला में रुचि रखते हैं और इस खूबसूरत शहर को घूमने का प्लान बना रहे हैं तो आइए जाने इस शहर के दर्शनीय स्थल

विक्टोरिया मेमोरियल

विक्टोरिया मेमोरियल

 

यह खूबसूरत स्मारक रानी विक्टोरिया को समर्पित है। इसका निर्माण 1906-1921 के बीच कियाकाली पूजा में यहां विशेष गया था। इसकी शिल्प कला बहुत ही खूबसूरत है। इस मेमोरियल में एक बहुत बड़ा संग्रहालय है जहां रानी के द्वारा उपयोग की जाने वाली चीजे जैसे पियानों , स्टड़ी डेस्क जैसे 300 से भी ज्यादा चीजे संग्रहित की गई है। यदि आप यहां घूमने जाने वाले है तो एक बात का ध्यान रखे कि यह सोमवार को बंद रहता है , अतः इसके हिसाब से ही अपना प्लान बनाये। बाकी दिन यह सवेरे 10 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक खुला रहता है।

कालीघाट काली मंदिर

कालीघाट काली मंदिर

यह मंदिर माता काली को समर्पित है। यह मुख्य 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां भक्तों का तांता लगा रहता है। दिवाली के समय काली पूजा में यहाँ विशेष भीड़ रहती है। ऐसा कहा जाता है कि माता सती के पैरों की उंगलियां कट कर यही गिरी थी तब से यह मंदिर विशेष आस्था का प्रतीक है। यह मन्दिर सवेरे 5 बजे से दोपहर 2 बजे तक उसके बाद शाम 5 बजे से रात्रि 10 बजे तक खुला रहता है।

हावड़ा ब्रिज

हावड़ा ब्रिज

हावड़ा ब्रिज पूरे दुनिया में प्रसिद्ध है। यह ब्रिज लोहे से बना हुआ है और यह ब्रिज हावड़ा और कलकत्ता को आपस में जोड़ता है । इस ब्रिज को गेटवे ऑफ कोलकाता के नाम से भी जाना जाता है। यह पुल हुगली नदी पर बना कैन्टीलीवर सेतु” है। इस पुल को रवींद्र सेतु भी कहा जाता है। इस पुल की लंबाई 1500 फुट और चौड़ाई 71 फुट है। इसे देखे बिना कोलकाता की यात्रा अधूरी है।

शहीद मीनार

शहीद मीनार

इस मीनार का निर्माण 1828 ई. में डॉ. डेविड ऑक्‍टरलोनी की स्मृति के रूप में करवाया गया था। ऑक्‍टरलोनी ने आंग्ल नेपाली युद्ध में अंग्रेजो का साथ दिया था और सेनानायक के रूप में बखूबी अपना कर्त्तव्य निभाया था। यह मीनार काफी रोचक है इसके आधार का निर्माण मिस्र की शैली में, खम्भो का निर्माण सीरियन शैली में व गुम्‍बज तुर्क शैली में किया गया था।

बिरला मंदिर

बिरला मंदिर

वैसे तो बिरला मंदिर भारत के प्रमुख शहरों में है और हर जगह इसकी वास्तुकला अनुपम है। कोलकाता में बिरला मंदिर का निर्माण 1970 में शुरू हुआ था और इसे पूरी तरह से बनने में लगभग 26 वर्षो का समय लग गया। भगवान राधा कृष्ण को समर्पित यह मंदिर अपने आप में अनुपम है और नक्काशीदार सफेद संगमरमर से बनी इसकी वास्तुकला अद्वितीय है। यहां कुछ पल यदि आप शाम को बैठ जाये तो असीम शांति का अनुभव करेंगे।

Read More:- दिलवालों का शहर दिल्ली की यात्रा

पार्क स्ट्रीट

पार्क स्ट्रीट

पार्क स्ट्रीट जो दक्षिण कोलकाता में है और यहां आपको शॉपिंग करने में मजा आ जायेगा। यहां आपको ब्रांडेड चीजों की भरमार मिल जाएगी। यहां आपको चौपाटी भी मिल जाएगी जहां आप स्ट्रीट फूड का आनंद ले सकते हैं। यहाँ कोलकाता का मेट्रो स्टेशन भी है। यहां कई रेस्टोरेंट, होटल, बार , पब मिल जाएंगे जो वीकेंड के मजे को दुगुना कर देते हैं। यहां वीकेंड पर काफी भीड़ होती है।

साइंस सिटी

साइंस सिटी

साइंस सिटी कोलकाता का उदघाटन 1 जुलाई 1993 को किया गया था। यदि आप विज्ञान में रुचि में रखते हैं तो इससे बेहतर जगह आपके लिए कुछ नही है। यहां डायनासोर की विभिन्न प्रजातियों को।दर्शाया गया है साथ ही दुर्लभ जानवर जैसे सरीसृप,
स्पेस फ्लाई आदि कई जंतुओं के नमूने आपको देखने को मिल जाएंगे। यह सांइस सिटी हर उम्र के लोगों के लिये देखने लायक है।

दक्षिणेश्वर मंदिर

दक्षिणेश्वर मंदिर

हुगली नदी के पूर्व में यह मंदिर स्थित है। इसे रानी रशमोनी ने सन 1854 में बनवाया था। यह मंदिर माता काली को समर्पित है। यह कोलकाता के मुख्य मन्दिरो में से एक है। यहाँ रामकृष्ण परमहंस माता काली की आराधना किया करते थे। उनका कक्ष आज भी सुरक्षित रखा गया है।

Load More Related Articles
Load More By Anjali pandey
Load More In Top City

Check Also

देवभूमि हरिद्वार के दर्शनीय स्थल

उत्तराखंड राज्य में पहाड़ियों के बीच बसा हुआ हरिद्वार जिसे देवभूमि तुल्य माना गया है। यह हि…