Home Top City मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल शहर की यात्रा

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल शहर की यात्रा

13 second read
1
0

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल एक सांस्कृतिक रूप से समृद्ध शहर है। कहा जाता है भोपाल को राजा भोजपाल ने 11 वी शताब्दी के आसपास बसाया था, उन्ही के नाम पर यह शहर भोपाल नाम से जाना जाने लगा।

भोपाल शहर के दो रूप देखने को मिलते हैं। नया भोपाल जो मध्य प्रदेश के राजधानी बनने के बाद अस्तित्व में आया, वह एक आधुनिक शहर है , जहां पर अनेक दर्शनीय प्राकृत पर्यटक स्थल हैं।

इसके साथ ही पुराने भोपाल शहर में अनेक ऐतिहासिक इमारतें हैं। भोपाल शहर में अनेक प्रकार की छोटी बड़ी झीलें हैं तथा शहर अनेक पहाड़ियों पर भी बसा हुआ है | यह सब बातें भोपाल को एक अलग व्यक्तित्व प्रदान करती हैं।

 

भोपाल

 

भोपाल शहर और इसके आसपास अनेक विश्व प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है , इसी कारण से भोपाल एक पर्यटक के लिए आने का अवसर आने का अवसर अवसर उपलब्ध कराता है।

बड़ी झील-

बड़ी झील

भोपाल की कई झीलों में बड़ी झील का बड़ा तालाब सबसे प्रसिद्ध एवं सुंदर है। यह एक मानव निर्मित झील है जो पर्यटकों को अनेक स्थानों पर नाव यात्रा का आनंद उपलब्ध कराती हैं। झील के किनारे से जाने वाली लेकव्यू सड़क भोपाल के कुछ सबसे सुंदर स्थानों में से एक है। इसके अलावा श्यामला हिल्स के ऊपर से इस झील का बहुत ही सुंदर दृश्य दिखाई देता है।

इंदिरा गांधी मानव संग्रहालय:

इंदिरा गांधी मानव संग्रहालय

 

यदि आपको एंथ्रोपोलॉजी या मानव शास्त्र शास्त्र में दिलचस्पी है तो आपको एक बार इंदिरा गांधी मानव संग्रहालय जरूर जाना चाहिए। यह संग्रहालय आपने आपका एकलौता संग्रहालय है जो मानव के आदिम जाति से लेकर अब तक के विकास को भलीभांति दर्शाता है।

वन विहार:

वन विहार

वन विहार मुख्य रूप से एक चिड़िया घर है लेकिन इसमें वन्यजीवों को उनके प्राकृतिक पर्यावरण के अनुसार ही रखा जाता है, इसी कारण इसका क्षेत्रफल बहुत कम होते हुए भी इसे राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा दिया गया है। भोपाल के पर्यटकों के लिए यह एक आकर्षण का केंद्र है।

ऐतिहासिक मस्जिदें

ऐतिहासिक मस्जिदें

भोपाल अपनी ऐतिहासिक एवं आलीशान मस्जिदों के लिए जाना जाता है। भोपाल की मोती मस्जिद, ताजुल मस्जिद और जामा मस्जिद इस्लामिक वास्तुकला का अद्भुत नमूना है। विशेष तौर ताजुल मस्जिद की विशालता अद्भुत है। जिसका दरवाजा 75 फ़ीट ऊंचा है और यहां महिलाएं भी नमाज अदा कर सकती है।

बिरला मंदिर:

बिरला मंदिर

यह मंदिर अरेरा हिल्स की छोटी सी सी पहाड़ी पर स्थित है, जिस का संचालन बिरला ट्रस्ट द्वारा किया जाता है। इस मंदिर की सुंदरता इसकी सबसे बड़ी खासियत है।

Read More :- पचमढ़ी-प्राकृतिक सुंदरता से सरोबार हिल स्टेशन

सांची के स्तूप

सांची के स्तूप
सांची के स्तूप का निर्माण सम्राट अशोक द्वारा ईसा पूर्व तीसरी शताब्दी में करवाया गया था। इस जगह को यूनेस्को द्वारा विश्व सांस्कृतिक धरोहर घोषित किया गया है और यह प्राचीन बौद्ध वास्तुकला का इकलौता संरक्षित नमूना है।

भीमबेटका की गुफाएं

भीमबेटका की गुफाएं

भोपाल से कुछ किलोमीटर की दूरी पर आपको यह गुफाएं देखने को मिल जाएंगी। इसके बारे में मत प्रचलित है कि यह गुफाएं महाभारत के भीम से जुड़ी हुई है और इसका नाम भीमबेटका प्रचलित हो गया। इसे यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित किया है। यह गुफाएं चारों तरफ से विंध्य की पहाड़ियों से घिरी हुई है। यहाँ जा कर आप इतिहास के काल को नजदीक से महसूस कर पाएंगे।

‌इसके अलावा भोपाल शहर में लोगों की रुचि के अनुसार कई पर्यटन स्थल हैं, जैसे भारत भवन, आर्कियोलॉजिकल म्यूजियम भोजपुर का शिव मंदिर, गौहर महल, रायसेन का किला आदि जिन्हें पर्यटक अपनी रूचि के अनुसार चुनाव कर सकते हैं।

Load More Related Articles
Load More By Anjali pandey
Load More In Top City

Check Also

देवभूमि हरिद्वार के दर्शनीय स्थल

उत्तराखंड राज्य में पहाड़ियों के बीच बसा हुआ हरिद्वार जिसे देवभूमि तुल्य माना गया है। यह हि…